2020
Add your custom text here
गौ माता
26 May, 2020 by
गौ माता
Web Developer - Harshul
Odoo • Image and Text

देवनी गोमाता

यह गोमाता मुंबई प्रांत की डांगी गोमाता के साथ ज्यादा मिलती जुलती है| इसमे गीर गोमाता जैसे थोड़े अणसार देखने मिलते है| इस गोमाता की सींग भी गीर गोमाता जैसी है| देवकी गोमाता के बैल के भी मजबूत बांधे होते है और खेत में  काफी उपयोगी होते है| दिल्ही के प्रथम गो प्रदर्शन मे हैदराबाद राज्य से देवकी गोमाता लाई गई थी। यह नसल का ज्यादा से ज्यादा तीन हजार रतल दूध एक वियार में मिला था. हैदराबाद मे यह नसल को सबसे ज्यादा दूध देने वाली नसल का एवोर्ड भी मिला था।

डांगी गोमाता

यह नसल की गोमाताएँ ज़्यादातर मुंबई और नासिक विस्तारों में देखने मिलती है| मूल डांग के जंगलो की यह  गोमाता गुजरात के वांसदा, जौहर और धरमपुर के विस्तार में देखने मिलती है| यह गोमाता के बैल भी पहाड़ी विस्तारों मे काफी उपयोगी है| कितनी भी मजदूरी कर्वा लो डांगी बैल फिरभि बीमार नहीं पड़ते| यह गौवंश का रंग लाल, सफ़ेद और काला होता है| 

 

Odoo • Text and Image
Odoo • Image and Text

मेवाती गोमाता

मूल राजस्थान की यह जाति के गौवंश काफी सरल होते है| यह गोमाता भारी से भारी हल भी सरलता से खिच लेते है| यह गोमाता थोड़ा कम खाती है| उनका शरीर सफ़ेद रंग का और मस्तक लाल रंग का होता है| इसमे गीर गोमाता से लाल रंग भी होते है| इन के कान जुके हुवे और चेहरा गीर गोमाता जेसा होता है| मेवाती गोमाता के पैर ऊंचे होते है|

नीमाड़ी गोमाता

यह नसल की गौवंश की गाय ज्यादा स्फूर्तिली होती है| इनका रंग लाल ओर कान मध्यम कद के होते है| लाल रंग में सफ़ेद धब्बे इस गोमाता में देखने मिलते है| यह गोमाता काफी उपयोगी है|

Odoo • Text and Image
Odoo • Image and Text

कांकरेज गोमाता

कांकरेज गोमाता मूल गुजरात की है और वाढ़ियार से विकसित हुई है| राधनपुर के आसपास, कच्छ, बनासकांठा और वडोदरा में कांकरेज गोमाता देखने मिलती है| कांकरेज गौवंश चलने में काफी मजबूत और मालवाहक वाहनो में भी खूब उपयोगी है| कांकरेज की छाती चौड़ी, शरीर मजबूत और सींग बड़े होते है| उनकी चमड़ी मोटी और गलकंबल साधार होता है| सामान्य गोमाताओं से उनकी पुछ छोटी होती है| यह गोमाता आज भी गुजरात और राजस्थान के गावों में देखने मिलती है| संख्या की दृष्टि से कांकरेज गुजरात में प्रथम क्रम की गोमाता है|

मालवी गोमाता

मूल मालवा से विकसित यह जाती भी मध्य प्रदेश के आदिवासी विस्तारों में और ग्रामीण विस्तारों में खूब उपयोगी है| यह गोमाता को आज भी गौचर भूमि नसीब है| गाँव में गाड़ा खींचने में भी यह गौवंश के बैल उपयोगी है| उनका रंग खाखी और काला है| जैसे जैसे गोमाता वृद्ध होती है इसका रंग फीका अर्थात सफ़ेद होता जाता है| यह गोमाता कम खाना खाती है| मध्य प्रदेश के गवों में उत्तर भाग में ग्वालियर प्रांत की मावली और दक्षिण भाग की मावली मे थोड़ा फर्क है|

 

Odoo • Text and Image
Odoo • Image and Text

नागोरी गोमाता

मूल राजस्थान के नागोर के साथ संबन्धित नागोरी गायों और नागोरी नंदी आज भी गुजरात, राजस्थान और महाराष्ट्र में देखने मिलती है| जोधपुर के आसपास के विस्तारों में नागोरी बैल देखने मिलते हैयहाँ पर्वतसर के मेले में नागोरी बैल का मेला लगता है| इंका मुख संकीर्ण और लंबा होता है| और सींग का आकार अर्धचंद्राकार होता हैत्वचा पतली और गलकंबल छोटा होनेसे उनकी सुंदरता अलगसी हैपरंतु नागोरी बैल ज्यादा मजबूत होने के कारण उनका महत्व ज्यादा है| परंतु बैल से होती खेती कम होने के कारण आज यह गौवंश की गोमाता धीरे धीरे नाश हो रही है|

थरपाकर गोमाता

रण प्रदेश के साथ जुड़ि हुई थरपाकर कच्छ, राजस्थान और महाराष्ट्र में देखने को मिलती है| रण के रेतीले विस्तार पर चलने की क्षमता धराने वाली यह गोमाता कम खाना खाती है| इसकी पनि और खाने की ज़रूरत कम होती है, पर यह गोमाता दूध ज्यादा देती है| यह गोमाता के गोबर से रण विस्तारों में लोग मकान बांधते है| पंजाब के कर्नाल में आई. ए. आर. इन्स्टीट्यूट में कुमार नाम की एक गोमाता ने ३१३ दिवस में ८७३४ लीटर दूध दिया जो प्रतिदिन २८ रतल हुआ। ऐसी थरपाकर गोमाता की भी अनेक विशेषताएँ हैं।   

Odoo • Text and Image
Odoo • Image and Text

बचौर गोमाता

बिहार प्रांत की यह गोमाता कोइलपुर में परगना में विकसी है| यह जाती के बैल भी खूब उपयोगी हैं| यह गोमाता बहोत कम दूध देती है, २ से ४ लिटर ज्यादा से ज्यादा| यह गोमाता का रंग खाखी, सिर बड़ा, नेत्र बड़े और कान जुके होते है|

पवार गोमाता

उत्तर प्रदेश की पीली भीत प्रांत की यह गोमाता राज्य के उत्तरी भाग में देखने मिलती है| सिर संकीर्ण और लंबे सींग यह गोमाता की खूबी है| पवार गोमाता के सींग की लंबाई १२ से १८ इंच होती है| यह सफ़ेद और काले रंग की ज्यादा देखने को मिलती है| पुंछ लंबी, ज्यादा स्फूर्तिली और क्रोधी प्रकृति की है| इस लिए कोई अज्ञात व्यक्ति पास में जाता है तो तुरंत प्रतिक्रिया करती है| पवार गोमाता उत्तर प्रदेश के मैदान के विस्तारो में मुक्त मन से खाना ज्यादा पसंद करती है|

Odoo • Text and Image
Odoo • Image and Text

भगनारी गोमाता

उत्तर भारत और मध्य प्रदेश में देखने मिलती यह गोमाता का उदभव द्धभागग नाम के विस्तार में होने से उनको भागनारी कहते है| यह गोमाता नदी विस्तारो में ज्यादा रहती है और नदी किनारों का घाँस ज्यादा पसंद करती है| यह जाती के भी २ प्रकार हैं| छोटी काठि में और बड़ी काठि में। यह गोमाता प्रचुर मात्रा में दूध देती है| और इस लिए गोपालको में ज्यादा प्रसिद्ध है|

दज्जल गोमाता

भगनारी  गोमाता का एक वंश है| यह पंजाब दोराहाजीखान जिले में बड़ी संख्या में देखने को मिलती है| ऐसा माना जाता है की भगनारी गोमाताओं को पंजाब में लाकर दज्जल प्रजाति को विकसित किया गया था| दूध ज्यादा देने के कारण पंजाब और उत्तर प्रदेश में यह गोमाता का अनोखा महत्व है|

Odoo • Text and Image
Odoo • Image and Text

गांवलाव गोमाता

यह गोमाता भारत के मध्य प्रांत से विख्यात नसल है| सातपुडा के वर्धा जिल्ले में यह गोमाता देखने को मिलती है| नागपूर मे भी देखने को मिलती है| मध्यम कद की यह गोमाता लंबे सिर, छोटे सींग और छोटे गलकंबल मे देख सकते है| यह गोमाता का रंग सफ़ेद है और लंबी यात्रा करने के लिए सक्षम है जिसके कारण पूरे मध्य भारत में यह गोमाता देख सकते है| गांवलाव गोमाता दूध भी अछि मात्रा में देती है जिसकी वजह से यह मध्य प्रांत के किसानों में ज्यादा लोकप्रिय है| कुछ जगह खामी होने के कारण आज दूध कम देने लगी है| परंतु अछे आहार प्रणालि से यह गोमाता का विकास कर सकते है

हरियाणी गोमाता

ज्यादा दूध देने वाली प्रसिद्ध एसी हरियाणी गोमाता मूल 
हरियाणा और पंजाब में देख सकते हैं| राजस्थान मे उत्तर भाग में भी हरियाणी गोमाता देख सकते है| सफ़ेद और खाखी रंग मे देखने मिलती यह गोमाता खूब तेज़ी से चलने वाली गोमाता है| उसके बैल भी खेति में तेज़ी से काम करने में उपयोगी हैंहरियाणी गोमाताओं ने भी देश में रेकॉर्ड ब्रेकिंग दूध देकर भारतीय देसी गायों में एक अनोखी पहचान बनाई है|

Odoo • Text and Image
Odoo • Image and Text

हाँसी हिस्सर गोमाता

पंजाब मे हिस्सार विस्तार की यह गोमाता हांसी नामकी नदी के किनारे विकसी है| यह गौवंश भी हरियाणी गोमाता जेसी मजबूत है| सफ़ेद और खाखी रंग मे देखने को मिलती है| और यह गोमाता काफी मजबूत होती है| उत्तर भारत के पशु मेले में यह वंश के बैल पारितोषिक से सनमानित किए गए है|

अंगोल गोमाता

मद्रास प्रांत अंगोल विस्तार में यह गोमाता देखने को मिलती है। भारतीय गौवंश में अंगोल गोमाताओं का आगवा स्थान है| पुराने समय में गंतुर जिल्ले में किसान उनका उपयोग करते थे। यह विस्तार में पानी ज्यादा होने के कारण गोमाता को चलने में काफी तकलीफ पड़ती है| कम चारे में भी अंगोल गोमाता जीवित रेह सकती है| अंगोल का शरीर लंबा होता है और गरदन छोटी होती है|

Odoo • Text and Image
Odoo • Image and Text

राठी गोमाता

कम चारा, ज्यादा दुध ज्यादा चलने वाली यह दूधल गोमाता है| लंबा रास्ता काटने वाली यह गोमाता मालधारियों  के साथ विचरण कर सकती है| उपरोक्त तीन गुणो के कारण यह गरीब की मुड़ी समान है जब नागोरी गोमाता और नंदी धनवानो की गाय कहलाते है|      

साहीवाल गोमाता

साहिवाल ज्यादा दूध देने वाली दूधल गोमाता की श्रेणी में अति है। यह नसल अफ़ग़ानिस्तान और उत्तर भारत में देखने मिलती है| उत्तर भारत के शाहेरो के साथ पंजाब के दक्षिण भाग में भी यह गोमाता देखने को मिलती है|

Odoo • Text and Image
Odoo • Image and Text

सिंघी गोमाता

कराची और बलूचिस्तान में विकसित यह देसी गोमाता पुराने समय में एक उच्च प्रकार की दुधाल गोमाता मनी जाती थी. इस में अफघान और गीर नसल का मिश्रण देखने को मिलता था. सिंघी गोमाता का दुधल गोमाता में आज भी स्थान है| पाकिस्तान मे सिंध मे यह गोमाता देखने को मिलती है| गर्मी और ठंडी में भी स्वस्थ रहती है| सिंधी गोमाता आकार में छोटी होती है| परंतु दूध देने की क्षमता ज्यादा है|

घन्नी गोमाता 

घन्नी गोमाता पंजाब में एक स्वतंत्र जाती है| मध्यम बांधे की और खूब स्फूर्तिली यह गोमाता आज भी पंजाब और सीमा प्रांतो में देखने को मिलती है| उनके बैल ज्यादा उपयोगी है| यह गोमाता सात महिना ही दूधा देती है| परंतु धन्नी बैल की खूबी यह है की वह बहोत तेज़ी से छोटे छोटे पेर रख कर दोड सकते है| वो खेत मे काफी उपयोगी है|

 

Odoo • Text and Image
Odoo • Image and Text

अमृत महल गोमाता

कर्णाटक की वतनी एसी अमृत महाल मैसूर के राजवीरों द्वारा विकसित की हुवी नसल है| भुखरे या काले रंग की यह गोमाता के सिंग तलवार जेसे होते है| यह गोमाता ज्यादा चंचल और गुस्सेवले स्वभाव की होती है|

प्राचीन भारत की पहाड़ी गोमाता

हिमालय में एक छोटे कद की गोमाता देखने को मिलती है| यह गोमाता प्राग ऐतिहासिक युग से चली आ रही है |माथे पर और गलकंबल पर सफ़ेद धब्बे यह गोमाता की खूबी है| आज यह गोमाता भारत की हरेक पहाड़ी प्रदेश में देखने को मिलती है| यह  गोमाता कम दूध देती है| परंतु अगर अच्छे से गोपालन किया जाय तो यह गोमाता की दूधा की मात्रा में और गोमाताओं की संख्या में बढ़ौती हो सकती है| यह गोमाता का सिर शरीर के प्रमाण में बड़ा होता है| सींग छोटी और पाहाड़ो में सरलता से घुमने के कारण इनकी खाने पीने की व्यवस्था सरलता से हो सकती है|

Odoo • Text and Image
Odoo • Image and Text

सीरी गोमाता

दार्जिलिंग के पहाड़ों में विकसित यह गोमाता सिक्किम और भूटान में देखने को मिलती है| यह गोमाता का मूल स्थान भूतान है| परंतु भारत के पूर्व प्रदेशो में भी इनका अस्तित्व होने के कारण इनका नाम भारतीय देसी गोमाताओं में भी लिया जाता है| सीरी जाती की गोमाता शरीर से मजबूत होती है|कान छोटे होते है| यह गौवंश के बैल पहाड़ों में सरलता से आना जाना कर सकने के कारण उनका महत्व विशेष है|

लोहानी गोमाता

यह गोमाता की ऊंचाई ज्यादा है| लाल रंग में सफ़ेद धब्बे। बलूचिस्तान के पर्वतों में भी देखने को मिलती है| कम दूध देने वाली यह गोमाता के बैल माल खिचने में उपयोगी है| यह गोमाता भी सिंधी गोमाता की तरह गरमी और ठंडी सहन कर सकती है|

Odoo • Text and Image
गौ माता
Web Developer - Harshul
26 May, 2020
Share this post
Archive